कृपया ध्यान दें : हनुमान जी के अतिप्राचीन मंत्रो के प्रभावशाली मंत्रो, श्लोकों, कवचों एवं विभिन्न रचनाओं के "अतुलितबलधामा महासंग्रह" को मात्र 2100/- मूल्य पर भक्तों तक पहुँचाया जा रहा है।
यदि आप इस "अतुलितबलधामा महासंग्रह" को प्राप्त करना चाहते है तो यहाँ क्लिक करें
संकटमोचन हनुमानाष्टक ।। सियावर राम चन्द्र की जय, पवनपुत्र हनुमान की जय ।।
बाल समय रवि भक्ष लियो तब, तीनहुं लोक भयो अँधियारो
ताहि सों त्रास भयो जग को, यह संकट काहु सों जात न टारो
देवन आनि करी विनती तब, छांड़ि दियो रवि कष्ट निहारो
को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो ॥1॥
बालि की त्रास कपीस बसै गिरि, जात महाप्रभु पंथ निहारो
चौंकि महामुनि शाप दियो तब, चाहिये कौन विचार विचारो
कै द्घिज रुप लिवाय महाप्रभु, सो तुम दास के शोक निवारो
को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो ॥2॥
अंगद के संग लेन गए सिय, खोज कपीस यह बैन उचारो
जीवत न बचिहों हम सों जु, बिना सुधि लाए इहां पगु धारो
हेरि थके तट सिंधु सबै तब, लाय सिया सुधि प्राण उबारो
को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो ॥3॥
रावण त्रास दई सिय को तब, राक्षसि सों कहि सोक निवारो
ताहि समय हनुमान महाप्रभु, जाय महा रजनीचर मारो
चाहत सीय अशोक सों आगि सु, दे प्रभु मुद्रिका सोक निवारो
को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो ॥4॥
बाण लग्यो उर लक्ष्मण के तब, प्राण तजे सुत रावण मारो
लै गृह वैघ सुषेन समेत, तबै गिरि द्रोण सु-बीर उपारो
आनि संजीवनी हाथ दई तब, लक्ष्मण के तुम प्राण उबारो
को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो ॥5॥
रावण युद्घ अजान कियो तब, नाग की फांस सबै सिरडारो
श्री रघुनाथ समेत सबै दल, मोह भयो यह संकट भारो
आनि खगेस तबै हनुमान जु, बन्धन काटि सुत्रास निवारो
को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो ॥6॥
बन्धु समेत जबै अहिरावण, लै रघुनाथ पाताल सिधारो
देवहिं पूजि भली विधि सों बलि, देउ सबै मिलि मंत्र विचारो
जाय सहाय भयो तबही, अहिरावण सैन्य समैत संहारो
को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो ॥7॥
काज किये बड़ देवन के तुम, वीर महाप्रभु देखि विचारो
कौन सो संकट मोर गरीब को, जो तुमसो नहिं जात है टारो
बेगि हरौ हनुमान महाप्रभु, जो कछु संकट होय हमारो
को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो ॥8॥
पवन तनय संकट हरण, मंगल मूरति रूप ।
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप ।।
लाल देह लाली लसे, अरु धरि लाल लंगूर
बज्र देह दानव दलन, जय जय जय कपि सूर
Hanuman Ashtak ।। Jai Shree Ram ।।
Bal samai Ravi bhakshi liyo, tab, tinahun lok bhayo andhiyaro,
Tahi su tras bhayo jag me, yah, sankat kahu son jat na taro,
Devan ani kari vinati tab, chhadi diyo Ravi kasht nivaro,
Ko nahin janat hai jag men, Kapi, sankat mochan nam tiharo ।।

Bali ki tras Kapis basai, giri jat mahaprabhu panth niharo,
Chauki maha muni saap diyo, tab, chahiya kaun vichar vicharo,
Kai dvij rup livai mahaprabhu, so turn das ke shok nivaro,
ko nahin janat hai jag men, Kapi, sankat mochan nam tiharo ।।

Angad ke sang lain gaye, Siya, khoji Kapis yah bain ucharo,
Jivat na bachihao hamson ju, bina sudhi lai ihan pagu dharo,
Heri thaki tat sindhu sabai tab, lai Siya-sudhi pran ubaro,
Ko nahin janat hai jag men, Kapi, sankat mochan nam tiharo ।।

Ravan tras dai Siya ko, jab rakshasi son kahi shok nivaro,
Tahi samai Hanuman mahaprabhu, jai maha rajnichar maro,
Chahit Siya Ashok son agi su, dai prabhu mudrika shok nivaro,
Ko nahin janat hai jag men ,Kapi, sakat mochan nam tiharo ।।

Baan lagyo ur Lachhman ke, tab, pran tajo sut Ravan maro,
Lai grah vaidya Sukhen samet, taba, hin giri dron suvir uparo,
Aani sanjivan hath dai tab, Lachman ke tum pran ubaro,
Ko nahin janat hai jag men, Kapi, sankat mochan nam tiharo ।।

Ravan yudhi ajan kiyo , tab, nagi ke phansi sabai sir daro,
Shri Raghunath samet sabai dal, moh bhayo yah sankat bharo,
Ani khages tabai Hanuman so, bandhan kati sutras nivaro,
Ko nahin janat hai jag men, Kapi, sahkat mochan nam tiharo ।।

Bandhu samet jabai Ahiravan, lai Raghunath patal sidharo,
Devihin puji bhali vidhi son, bali, dehn sabai mili mantra vicharo,
Jai sahai bhayo taba hin, Ahiravana sain samet sanharo.
Ko nahin janat hai jag men, Kapi, sankat mochan nam tiharo ।।

Kaaj kie badh devan ke, tum, vir mahaprabhu dekhi vicharo,
Kaun so sankat mori garib ko, jo turn so nahin jaat hai taro,
Vegi haro Hanuman mahaprabhu, jo kachhu sankat hoi hamaro
Ko nahih janat hai jag men, Kapi, sankat mochan nam tiharo ।।
।। Lal dehi lali lase, aru dhari lal Langur,
Bajra deh danav dalan, jai jai jai kapi sur. ।।
।। siyaver ram chandra ki jai, pawanputra Hanuman ki jai ।।