कृपया ध्यान दें : हनुमान जी के अतिप्राचीन मंत्रो के प्रभावशाली मंत्रो, श्लोकों, कवचों एवं विभिन्न रचनाओं के "अतुलितबलधामा महासंग्रह" को मात्र 2500/- मूल्य पर भक्तों तक पहुँचाया जा रहा है।
यदि आप हनुमान भक्त है और "अतुलितबलधामा महासंग्रह मूल्य 2500/- रुपये" में खरीदना चाहते है तो इस फॉर्म को भरें :
आपका नाम : मोबाइल नं : शहर :
पोस्ट
आस्था और विश्वास का अद्भुत मंदिर आर्थोपेडिक हनुमान आस्था और विश्वास का अद्भुत मंदिर आर्थोपेडिक हनुमान आपने हनुमान जी के कई नाम सुने होंगे परन्तु कभी और्थोपेडिक हनुमान जी के बारें में सुना है जो किसी की भी टूटी हड्डियों को जोड़ देते है। ये मंदिर है मोहास का अद्भुत चमत्कारी हनुमान जी का मंदिर। यहाँ हनुमान जी स्वयं डॉक्टर के रूप में विराजमान है। इस मंदिर में लोंग अपनी बैसाखियों पर आते है और अपने पैरो पर चल कर जाते है।
हनुमान जी व रावण का घूँसा हनुमान जी व रावण का घूँसा श्री हनुमान जी के बल का कोई पार नहीं। वे अतिबलशाली और अतिशक्तिशाली है। बड़े बड़े योद्धा भी उनके सामने नहीं टिक सके।
जब भागा बाली हनुमान जी के डर से जब भागा बाली हनुमान जी के डर से किष्किन्धा के राजा महाबली बाली में 100 हाथियों के बराबर बल था। जिसने लंकापति रावण को अपनी काँख में दबा कर पूरी पृथ्वी में घुमाया था, जिसे वरदान था कि शत्रु की आधी शक्ति उसके शरीर में आ जायेगी। उसे भी हनुमान जी के डर से भागना पड़ा।
ऐसा शिवलिंग जिसमें बकरें की गंध आती है - अजगंध महादेव ऐसा शिवलिंग जिसमें बकरें की गंध आती है - अजगंध महादेव इस शिवलिंग को प्रात: हाथों से रगड़ कर सूंघे तो आपको हाथों से बकरें की गंध सी आती हुई प्रतीत होती है।
एक राजा जिसे आज भी भगवान की तरह पूजा जाता है एक राजा जिसे आज भी भगवान की तरह पूजा जाता है भारत वर्ष में एक से बढ़कर एक महान राजा हुए परन्तु उनमें से बहुत ही कुछ ही ऐसे हुए जिनका मंदिर हो और वो आज भी भगवन की तरह पूजे जाते हो। उनमे से एक है अजमेर के अजयपाल बाबा।
क्या नारद जी के श्राप के कारण हुआ श्री राम का जन्म ? क्या नारद जी के श्राप के कारण हुआ श्री राम का जन्म ? श्री राम के जन्म एक कारण नारद जी का श्राप है। माता पार्वती के आग्रह पर भगवन शिवशंकर ने कथा बताई।
अमावस्या को करें लक्ष्मीप्राप्ति हवन अमावस्या को करें लक्ष्मीप्राप्ति हवन मेहनत करने पर भी आपको पैसे कि समस्या आ रही है तो हर अमावस्या को घर में एक छोटा सा आहुति प्रयोग करें।
रचनायें